Magistrate कैसे बने, क्या होता है, Qualification, Age Limit, Salary

| | 5 Minutes Read

आज हम आपको इस Article में बताएँगे की Magistrate कैसे बने और Magistrate बनने के लिए तैयारी कैसे करे की पूरी जानकारी.

साथ ही हम आपको Magistrate से जुड़े और भी सवालों के जवाब देंगे जैसे की: Magistrate क्या होता है, Magistrate के लिए कौन सा Subject चुनना चाहिए, Qualification, Salary इत्यादि की पूरी जानकारी विस्तार में जानेंगे.

तो चलिए शुरू करते हैं Article Magistrate कैसे बने पढ़ने से.

Magistrate Kaun Hota Hai

Magistrate भारत सरकार का एक सिविल अधिकारी होता है. Magistrate की नियुक्ति सरकार के द्वारा की जाती है. Magistrate नियुक्त किए गए जिले का मुखिया होता है जो कानून से संबधी निर्णय लेने और सुनने का कार्य करता है. एक Magistrate का काम अपने जिले की प्रशासनिक व्यवस्थाओं को बनाएँ रखने होता है.

Magistrate Kya Hota Hai

Magistrate अपराधिक न्यायालय का प्रभारी होता है जो अपराधिक मामलों की सुनवाई और उन मामलों पर निर्णय देने का काम करता है.

Magistrate को हम जज या फिर न्यायाधीश भी कह सकते हैं. Magistrate को अपना कार्य बड़ी ही कुशलता से करना होता है. Magistrate के द्वारा लिया गया एक गलत निर्णय अपराधी को निर्दोष और निर्दोष को अपराधी बना सकता है.

किसी भी अपराधिक मामले में न्यायाधीश को अपना निर्णय सोच समझकर तय करना होता है. Magistrate का काम पूरी ईमानदारी से न्याय विभाग को सही मार्ग पर ले जाने का होता है.

Magistrate Kaise Bane

Magistrate बनने के लिए सबसे पहले LLB कोर्स से ग्रेजुएशन करना पड़ता है. इसके बाद आपको राज्य न्यायिक सेवा परीक्षा के लिए आवेदन करना होता है. एक बार आप न्यायिक सेवा परीक्षा पास कर लेते हैं इसके बाद आप Magistrate बन सकते हैं.

1. 12वीं पूर्ण करें: सबसे पहले आपको 12वीं पास करना होगा. 12वीं आप कॉमर्स, आर्ट्स, साइंस इत्यादि विषय से भी पूर्ण कर सकते हैं. 12वीं कम से कम 55% से 70% अंकों से पूर्ण होना अनिवार्य है.

2. CLAT एग्जाम qualify करें: LLB कोर्स में एडमिशन के लिए कई कॉलेज में entrance एग्जाम का आयोजन किया जाता है. CLAT law कोर्स में एडमिशन के लिए एक परीक्षा है. इस एग्जाम को आप 12वीं करने के बाद दे सकते हैं.

CLAT एग्जाम परीक्षा online माध्यम से आयोजित की जाती है. इस एग्जाम के अंतर्गत English, General knowledge and current affairs, Quantitative techniques, Legal Reasoning, Logical Reasoning इत्यदि विषय शामिल होते हैं.

CLAT एग्जाम 150 अंकों का होता है. अगर आप इस एग्जाम को पास कर लेते है तो किसी भी law कॉलेज में एडमिशन ले सकते है.

3. LLB कोर्स पूर्ण करें: अगर अपने CLAT एग्जाम Qualify कर लिया है तो आप Law कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं. 12वीं पूर्ण करने के बाद law कोर्से पूर्ण करने की समय अवधि 5 साल होती है.

अगर आप ग्रेजुएशन के बाद इस कोर्स को करते हैं तो यह 3 साल तक का होता है. Magistrate बनने के लिए आपका LLB कोर्स पूर्ण होना अनिवार्य है.

4. राज्य न्यायिक सेवा परीक्षा Qualify करें: LLB कोर्स करने के बाद आपको राज्य न्यायिक सेवा परीक्षा एग्जाम के लिए आवेदन करना होगा. समय समय पर राज्य सरकार द्वारा इस परीक्षा का आयोजन किया जाता है. राज्य न्यायिक सेवा परीक्षा एग्जाम की परीक्षा तीन भागों में आयोजित की जाती है.

Preliminary परीक्षा में वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न शामिल होते हैं, अगर आप Preliminary एग्जाम पास कर लेते है तो आप मुख्य एग्जाम में शामिल हो सकते हैं. मुख्य एग्जाम में तीन या चार पेपर होते है.

जब आप Preliminary और मुख्य एग्जाम दोनों पास कर लेते हैं तो आपको इंटरव्यू के लिए चयनित कर लिया जाता है.

अगर आप इंटरव्यू पास कर लेते हैं तो पास किए गए अंकों के आधार पर Merit List जारी की जाती है. इसके बाद आपको  Magistrate पद के चयनित किया जाता हैं.

Magistrate Ki Taiyari Kaise Karen

1. Magistrate बनने तैयारी के लिए सबसे पहले आपको LLB कोर्स से ग्रेजुएशन डिग्री पूर्ण करना होगा.

2. LLB कोर्स करने के लिए आपको Entrance एग्जाम Qualify करना होता है.

3. अगर आप CLAT एग्जाम Qualify करते हैं तो आप किसी भी Law कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं.

4. LLB कोर्स पूर्ण करने के बाद राज्य न्यायिक सेवा परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं.

5. न्यायिक सेवा परीक्षा तीन भागों में होती है. जिसमें Preliminary और Mains एग्जाम, इंटरव्यू शामिल होता हैं.

6. न्यायिक सेवा परीक्षा पास करने के बाद आपको Magistrate पद के लिए चयनित कर लिया जाता है.

Magistrate Qualification

  • आवेदक भारत का नागरिक होना चाहिए.
  • उम्मीदवार की आयु सीमा 21वर्ष से 35वर्ष तक होनी चाहिए.
  • उम्मीदवार को 5 साल या 3 साल का LLB कोर्स पूर्ण करना अनिवार्य है.

Magistrate Ka Matlab

Magistrate को हिंदी में न्यायाधीश कहते हैं, जो न्यायाधीश की तरह ही अपने जिले के क़ानूनी मामलों को संभालने का कार्य करता है.

Magistrate Age Limit

Magistrate की आयु सीमा न्यूनतम 21 वर्ष से अधिकतम 35 वर्ष तक होती है.

Magistrate Retirement Age

Magistrate की Retirement उम्र न्यूनतम 62 वर्ष से अधिकतम 65 वर्ष तक होती है.

Magistrate Salary in India

India में Magistrate की सैलरी 8,45,060 रूपये तक सालना होती है.

Magistrate Salary per Month

Magistrate की सैलरी 50,000 रूपये से 60,000 रूपये प्रतिमाह तक होती है.

Sub Magistrate Kaun Hota Hai

Sub Magistrate एक जज होता है, जो मुकदमों के फैसले सुनाता है. मुकदमो के फैसले पुलिस विभाग से संबंधित नही होते है.

अगर आपको हमारी यह पोस्ट Magistrate Kaise Bane पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.

अगर आपके मन में कोई सवाल है तो आप comment कर के पूछ सकते है.

Author:

मेरा नाम रजत है, में इस वेबसाइट पर Jobs और Sarkari Yojana के बारे में जानकारी share करता हु. मैंने पढाई में BA, PGDCA किया है. आप मुझ से Govt, Private, Railway, Banking आदि jobs से जुड़े प्रिश्न भी पूछ सकते है.

Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *