इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है, Intraday Trading Meaning in Hindi, शेयर मार्केट

| | 3 Minutes Read

इंट्राडे ट्रेडिंग आज के समय में सबसे जायदा उपयोग की जाने वाली ट्रेडिंग स्टाइल है. जिसका उपयोग कर के कई लोग हजारों और लाखों रूपए तक रोज के कमा लेते है. शेयर मार्केट में इंट्राडे के ट्रेडर्स बहुत ज्यादा है.

आप भी इंट्राडे ट्रेडिंग को समझ कर सिख सकते है. साथ ही इंट्राडे क्या है. इसको जानने के बाद आप खुद स्टॉक एक्सचेंज में ट्रेडिंग शुरू कर सकते है.

चुकी इंट्राडे ट्रेडिंग एक जोखिम से भरा काम है. इसलिए आज हम इस पोस्ट में Intraday Trading Kya Hota Hai और Intraday Trading Meaning in Hindi के बारे में विस्तार से जानेगे. इंट्राडे ट्रेडिंग पर हमारी यह पोस्ट पूरी पढ़े.

Intraday Trading Meaning in Hindi

इंट्राडे ट्रेडिंग का मतलब शेयर मार्केट में एक ही दिन के अंदर शेयर को खरीदना और बेचना होता है. इसलिए इसे हम डे ट्रेडिंग भी कहते हैं. जिसमें कोई भी ट्रेडर्स मार्केट के खुलने से लेकर बंद होने के बीच में शेयर को कम कीमत पर खरीद कर बेच देता है और अपना प्रॉफिट बना लेता है.

Intraday Trading Kya Hota Hai

इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है: इंट्राडे ट्रेडिंग का मतलब एक ही दिन में Share को खरीदना और बेचना होता है. इंट्राडे ट्रेडिंग को सुबह 9:15 से लेकर 3:20 के बीच में किया जाता है. इंट्राडे ट्रेडिंग में ट्रेडर्स स्टॉक एक्सचेंज के अंदर शेयर की प्राइस पर ट्रेडिंग करते हैं और शेयर मार्केट में अपना प्रॉफिट बुक करते हैं.

इंट्राडे ट्रेडर्स शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करने वाले शेयर्स की कभी डिलीवरी नहीं लेते और मार्केट बंद होने से पहले शेयर को बेचकर स्क्वायर ऑफ कर देते हैं.

इंट्राडे ट्रेडिंग में आपको डीमैट अकाउंट की जरूरत नहीं पड़ती. चुकी यह ट्रेडिंग सिर्फ ट्रेडिंग अकाउंट पर होती है. जिस में हम मार्जिन मनी का उपयोग करते है.

इंट्राडे ट्रेडिंग में सबसे पहले Sell Target लगाया जाता है. ताकि प्रॉफिट बुक किया जा सकें. इसक बाद स्टॉप लॉस लगा कर शेयर को ट्रेड होने के लिए छोड़ दिया जाता है.

Intraday Trading Basics in Hindi

1. इंट्राडे में एक ही दिन में शेयर को खरीदना व् बेचना होता है.

2. इंट्राडे में शेयर की डिलेवरी डीमैट अकाउंट में नहीं ली जाती.

3. डीमैट अकाउंट के साथ ट्रेडिंग अकाउंट भी इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए जरुरी होता है.

4. इंट्राडे में शोर्ट टाइम जैसे मिनिट, घंटों के लिए ट्रेडिंग की जाती है.

5. इंट्राडे में स्टॉप लॉस प्रॉफिट टारगेट के 10% Down Price पर लगाया जाता है.

6. इंट्राडे ट्रेडिंग में एक शेयर पर सिर्फ एक ही बार ट्रेडिंग की जाती है.

7. प्रॉफिट बुक होने पर दुबारा उसी शेयर पर इंट्राडे ट्रेडिंग नहीं करना चाहिए.

Intraday Trading in Hindi

इंट्राडे ट्रेडिंग में किसी एक कंपनी के शेयर को चुन कर सबसे पहले उसकी प्राइस चार्ट पर एनालिसिस किया जाता है. जिसके बाद चार्ट के अनुसार Lowest Price पर share को ख़रीदा जाता है. जिसके बाद शेयर पर प्रॉफिट बुक करने के लिए 2% की up शेयर प्राइस पर sell order लगाया जाता है. इसके साथ ही 10% down शेयर प्राइस पर स्टॉप लॉस लगाया जाता है.

इंट्राडे ट्रेडिंग में इस बात का ध्यान रखा जाता है की आपकी सारी ट्रेड 10:00 AM से लेकर 3:00 PM के बिच पूरी हो जाये. ताकि आपको शेयर की डिलीवरी अपने डीमैट अकाउंट में न लेना पड़े.

चुकी हम इंट्राडे ट्रेडिंग में मार्जिन मनी का भी उपयोग करते है. तो हमे इस बात का ध्यान रखना होता है की हम मार्जिन मनी के प्रिंसिपल अमाउंट का सिर्फ दुगना ही मार्जिन मनी उपयोग करें. ताकि अगर हमे कभी शेयर को स्टॉप लॉस पर बेचना पड़े तो ज्यादा नुकसान न हो.

ठीक इसी प्रकार, इंट्राडे ट्रेडिंग करने पर अगर आपको नुकसान का अनुभव होता है की आज शेयर की प्राइस डाउन जायगी लेकिन कल मार्केट ओपन होते ही शेयर की प्राइस फिर से ऊपर जायगी.

तो आप अपने इंट्राडे ट्रेड को स्विंग में भी बदल सकते है. जिसके लिए आपको स्विंग ट्रेडिंग क्या है और स्विंग ट्रेडिंग कैसे करे की पोस्ट पढना चाहिए.

अगर आपको हमारी यह पोस्ट Intraday Trading Kya Hota Hai और Intraday Trading Meaning in Hindi अच्छी लगी तो इसको अपने दोस्तों के शेयर जरुर करें.

इसके साथ ही अगर आपके मन में इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है से जुड़े कोई सवाल है तो आप कमेंट कर के पूछ सकते है.

Author:

मेरा नाम अंजली है, इस वेबसाइट पर में Stock Market, Mutual Fund, Commodity Market और Trading के बारे में लिखती हु. मैंने MBA ( Marketing & Finance) से किया है. अगर आपका कोई प्रिश्न है तो आप कमेंट में पूछे.

Tagged Posts

Questions Answered: (4)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *