फ्रेंचाइजी बिजनेस क्या है, फ्रैंचाइज़ कैसे बनाये, FOCO, COCO, FOFO

| | 5 Minutes Read

अगर आपका ब्रांड बहुत अच्छा बन गया है या आप उस ब्रांड को आगे बढ़ाना चाह रहे है तो आप भी फ्रैंचाइज़ की मदद से अपने बिज़नेस को बड़ा बना सकते है.

आज हम इस पोस्ट में जानेगे Franchise Business Kya Hota Hai और Franchise Kaise Banaye.

फ्रैंचाइज़ के मॉडल क्या होते है. हम अपनी कंपनी की फ्रैंचाइज़ कैसे बनाये.

Franchise Business Kya Hota Hai

फ्रेंचाइजी बिजनेस क्या है: फ्रैंचाइज़ बिज़नेस एक ऐसा बिज़नेस होता है जिसमे किसी कंपनी का owner अपने product और services को बेचने का अधिकार, अपनी कंपनी के logo, name, model, recipe आदि का उपयोग कनरे का आधिकार किसी थर्ड पार्टी को देता है. ऐसे बिज़नेस को फ्रैंचाइज़ बिज़नेस कहते है.

जो व्यक्ति फ्रैंचाइज़ लेता है तो वह उस कंपनी का नाम इस्तेमाल करके. उस सामान को लोगो में बेचता है और वो भी इससे मुनाफा कमाता है और इससे कंपनी के मालिक के ब्रांड का नाम लोगो में प्रसिद्ध भी होता है.

Franchise Kaise Banaye

अपने बिज़नेस की फ्रैंचाइज़ बनाने के लिए आपको अपने बिज़नेस का एक फ्रैंचाइज़ मॉडल सेलेक्ट करना होगा. जहाँ फ्रैंचाइज़ के Foco, Coco, Fofo Franchise Model होते है. किसी भी मॉडल को चुनने के बाद आपको Product और Service की रेसिपी और प्रोसेस का एक फॉर्मेट बनाना होगा.

फिर एक Franchise Agreement बनाना होगा. इसके बाद आप अपने बिज़नेस की फ्रैंचाइज़ किसी को भी दे सकते है.

आप जिस व्यक्ति को फ्रैंचाइज़ देंगे उस व्यक्ति से आप एक Franchise Agreement Sign करवा लेंगे.

जिसमे वह अपनी Company, Brand का नाम, रेसिपी को उपयोग करने के बदले में आपको Royalty Fees देगा. साथ ही जो भी प्रोडक्ट और सर्विस वह लोगों को देगा उसका माल भी वह आपसे ही खरीदेगा.

Franchise Agreement in Hindi

  • फ्रेंचाइजी बिज़नेस का Agreement एक एसा Agreement होता है. जिसमे एक Franchiser से Franchise लेने के नियम लिखे होते है.
  • अगर किसी व्यक्ति को फ्रैंचाइज़ लेना है तो अग्रीमेंट में लिखी सारी Term and Condition को मानना पड़ता है.
  • Franchise का Agreement भारत सरकार के Contract Act 1872 के तहत होता है. इस Act में Copyright कानून और Trademark कानून के बारे में बताया गया है.
  • Competition Act, 2002 के तहत आपके सामान के उत्पादन, Market में Sale, आपूर्ति या नियंत्रण के ऊपर अपना प्रभाव डालना मना है.
  • अगर आपके सामान को उसकी दुकान में जाने में कमी होती है या उसकी दुकान पर सामान नहीं पहुचता है तो  Consumer Protection Act के तहत वो आप पर Complaint कर सकता है.
  • जब आपके बिज़नेस के बिच में विदेसी मुद्रा और विदेशी संपत्ति होती है तो इसके लिए The Foreign Exchange Management Act, 1999 लागु होगा.
  • भारत में आप बिना अग्रीमेंट के किसी को भी अपनी कंपनी की फ्रेंचाइजी नहीं दे सकते है.

Foco Model Franchise in india

FOCO का पूरा नाम होता है Franchisee Owned Company Operated. इस Model में रूपए सारे Franchisee लगाता है पर इस बिज़नेस को चलाते है.  इस तरह के Model में आपको फायदा ये होता है की इसमें आप ही इसको अपने हिसाब से चलाते है. इसमें Franchisee बीएस अपने रूपए लगाने होते है.

इस तरह के Model में आपको Franchisee के साथ Profit भी बराबर बाटना होता है. अब हम अगले Model को जानते ह.

Coco Model Franchise in India

COCO Model का मतलब Company Owned Company Operated होता है. इस Model में रूपए भी Company के होते है और Branch को चलती भी कंपनी ही है. इससे आपको फायदा ये होता है की जब आप इस Model अपनी कुछ Branch को खोल लेते है तो बाद में लोग आपके पास खुद आकर आपकी Franchisee को लेते है. जिससे आपको बहुत फायदा होता है.

Cofo Model Franchise in India

इस मॉडल में का मतलब होता है Company Owned Franchisee Operated. इस तरह के Model में Company अपने रूपए इन्वेस्ट करती है और इसको फ्रेंचाइजी अपने हिसाब से चलाता है. इस Model में आपको आपका Profit मिलता जाता है. अब हम अगले Model के बारे में जानते है.

Fofo Model Franchise in India

इस Model का मतलब Franchisee Owned Franchisee Operated है. इस बिज़नेस में इस बिज़नेस Model में रूपए भी Franchisee के लगते है और इसको चलाता भी Franchisee है. इसमें आपको आपका Profit मिलता रहता है. इससे आपको ये फायदा होता है की इसमें आपको मेहनत करने की जरुरत नहीं होती है.

Franchise Business in Hindi

अगर आप अपने बिज़नेस की फ्रैंचाइज़ देना चाहते है और उस पर आपका पूरा हक रहे तो आप इसके लिए FOCO Model की फ्रैंचाइज़ दे सकते है. कर सकते है. जिसमे Franchisee के ऊपर आपका पूरा हक़ रहेगा. साथ ही आप अपनी फ्रैंचाइज़  की रॉयल्टी फीस 50,000 से लेकर 1,00,000 रख सकते है.

आप पानी Company के लिए रॉयल्टी को Profit के हिसाब से रखिये. आप इसके लिए Profit के कम से कम 30% भी रख सकते है. इससे होगा ये की आपका Franchisee जितने भी रूपए कमाएगा.

आपको उसके हिसाब से रूपए मिलते रहेंगे. इससे Franchisee के ऊपर भी ज्यादा भर नहीं आएगा और आपको भी इससे नुकशान का सामना नहीं करना पड़ेगा.

अगर आपको हमारी यह पोस्ट Franchise Business Kya Hota Hai और Franchise Kaise Banaye पसंद आई.

तो इसको अपने दोस्तों के साथ शेयर करे. अगर कोई सवाल है तो comment कर के पूछ सकते है.

Author:

मेरा नाम आदित्य कुमार है, मैं इस वेबसाइट पर Startup, Business और Finance के बारे में जानकारी Share करता हु. मैंने पढाई में BBA और MBA (Entrepreneurship and International Business Development) में किया है. आप मुझ से बिज़नेस और स्टार्टअप से जुड़े अपने प्रिश्न पूछ सकते है.

Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *