सेबी क्या है, सेबी के कार्य, स्थापना, मुख्यालय, सेबी में शिकायत कैसे करें

आज हम जानेंगे की सेबी क्या है और सेबी के कार्य क्या है. सेबी में शिकायत कैसे करें. इस पोस्ट में आज हम सेबी के बारे में विस्तार से जानेंगे. क्‍योंकि सेबी Share Market का एक मुख्‍य हिस्‍सा है और इसकी अनुमती के बिना कोई भी शेयर मार्किट में काम नहीं कर सकता ताे चलिए जानते है की SEBI Kya Hota Hai और Sebi Me Complaint Kaise Kare.

SEBI Kya Hota Hai और Sebi Me Complaint Kaise Kare
SEBI Kya Hota Hai और Sebi Me Complaint Kaise Kare
SEBI Full Form in Hindi

SEBI Full Form हिंदी में “भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड” होता है जिसे हम अंग्रेजी में securities and Exchange Board of India या शोर्ट में SEBI कहते है.

SEBI Meaning in Hindi

SEBI का मतलब हिंदी में भी “सेबी” होता है. क्योंकी यह भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड का एक शोर्ट फॉर्म है.

SEBI Kya Hota Hai

सेबी क्या है: सेबी भारत का प्रतिभूति एवं वित्त का नियामक बोर्कड है. जिसकी इस्थापना सन 1988 अप्रैल 12 को मुंबई में की गई थी. जिसे 30 जनवरी 1992 में अधिनियम के तहत वैधानिक मान्यता प्राप्त हुई. जिसके बाद इसे Market Regulator का दर्जा मिला. सेबी की स्थापना के बाद मुंबई में ही इसका मुख्यालय बनाया गया और फिर सेबी ने Stock Exchanges, Share Market, Mutual Funds, Bonds, Commodity Market आदि के लिए नए नियम बनाये. जिससे आम जनता को शेयर बाज़ार में निवेश करने की सुविधा मिली.

सेबी ने समय समय पर लोगों के साथ हो रहे फ्रॉड और शेयर मार्केट धोकाधडी के खिलाफ भी सख्त कदम उठाये. जससे आम लोगों ने भी शेयर बाज़ार को सुरक्षित माना और फिर उसमे निवेश करना शुरू किया.

SEBI Ki Sthapna Kab Hui

सेबी की स्थापना कब हुई: सेबी की स्थापना 12-अप्रैल-1988 को Securities and Exchange Board of India Act 1992 के तहत मुंबई में हुई थी . जिसको मार्केट रेगुलेटर, शेयर मार्केट रेगुलेटर के नाम से जाना जाने लगा.

Sebi Ka Mukhyalay Kahan Hai

सेबी का मुख्‍यालय Mumbai में स्थित है. जबकि इसके अन्य क्षेत्रीय कार्यालय New Delhi, Kolkata, Chennai and Ahmedabad में स्थित है. सेबी एक मार्केट रेगयूलेटर है और सेबी की स्थापना 12 अप्रैल 1992 में Securities and Exchange Board of India Act के तहत की गई थी. तब से सेबी आपने सभी कार्यालयों से Stock Exchanges पर नियंत्रण रखने का कार्य कर‍ती है.

सेबी के कार्य

  • Depositories अकाउंट खोलने वाली बडी और छोटी संस्थिता जो की NSDL or CDSL के अंतर्गत आती है उनपर निगरानी रखना.
  • Depository Participant जैसे share khan, angel broking, Reliance Money and banks आदि की शिकायतें लेना
  • Credit Rating Agency जैसे CRISIL, ICRA, CARE आदि को रेगुलेट करना.
  • FII (एफआईआई) Foreign Institutional Investors के सभी Transactions सेबी की निगरानी में होते है.
  • Merchant Bankers जैसे Axis Bank, ICICI bank जो कंपनियों का IPO लाने में मदद करते है इनका कार्य भी सेबी की निगरानी में होता है.
  • Debentures Trustees जो की कंपनियों को Debentures के बदले में लोन देने का कार्य करती है. इन्हें भी सेबी की रेगुलेटरी में काम करना होता है.
  • PMS (Portfolio Management Services) जनके निवेश की न्यूनतम सीमा 25 लाख होती है. जैसे Parag Parikh, Religare Wealth आदि को भी सेबी के नियंत्रण में काम करना होता है.
  • AMC (Asset Management Companies) जो निवेशकों से एकत्रित किया हुआ पैसा मार्केट में निवेश करती है. इनका काम भी सेबी की निगरानी में होता है.

Sebi Me Complaint Kaise Kare

  • सेबी में शिकायत कैसे करें इसके लिए आप www.sebi.gov.in या www.scores.gov.in पर जाये
  • अब complaint Registration पर क्लिक कर के sign up पर क्लिक करे और बेसिक जानकारी भर दे
  • अपनी शिकायत को साफ शब्दों में लिखे ताकि वह आपकी समस्या समझ सके
  • अपनी समस्या से जुडी हर जानकारी को लिखें
  • अपने वह सब दस्तावेज साथ रखे जो समस्या से संबंधित हों
  • शिकायत से संबंधित अगर कोई जरूरी दस्तावेज है या सबूत है तो उसे Upload करें
  • कंप्‍लेंट दर्ज करने के बाद अपने कंप्‍लेंट नंबर को जरूर लिख ले

आपकी शिकायत दर्ज होने के बाद सेबी अपना कार्य प्रारंभ करती है और जो इसका जिम्मेदार है उसके पास शिकायत भेजती है. सेबी के नियम अनुसार हर एक कंपनी को उसका जबाव देने पडता है और फिर इस तरह आपकी समस्या हल हो जाती है.

सेबी के उद्देश्य
  • Stock या Securities खरीदने वाले Participants एवं स्‍टॉक या Securities Issue करने वाली कंपनियों और मार्केट में शामिल ब्रोकर, बैंक, अन्य संस्थाओं पर निगरानी और नियंत्रण रखना.
  • शेयर बाजार के नियम और कानून बनाना एवं कानूनी संशोधन करना, स्‍टॉक ब्रोकर्स , एजेंट, मैनेजर आदि के कार्यों पर Regulation करना.
  • शेयर बाजार में काम करने वाली कंपनियां और संस्थाओं से बनाये गये कानूनों का पालन करवाना और उनपर निगरानी रखना.
  • शेयर बाजार में पारदर्शिता लाना और आम निवेशकों को जागरूक करना
  • निवेशकों के साथ हो रही धोकाधडी और फ्रॉड की शिकायत ले कर उस पर कार्यवाकी करना एवं निवेशक की मदद करना.

अब आप जान गए है की SEBI Kya Hota Hai और Sebi Me Complaint Kaise Kare. अगर आपके मन में कोई सवाल है जो आप हमसे Comment करके पुछ सकते है

यह पोस्ट पढ़े :-