NGO से पैसे कैसे कमाए – अपना NGO कैसे खोलें की पूरी जानकारी

आज हम इस आर्टिकल की मदद से यह जानेंगे कि NGO Se Paise Kaise Kamaye और Apna NGO Kaise Kholen एक NGO के Business के लिए Registration कहाँ करे साथ ही यहाँ रजिस्ट्रेशन करने के लिए कौन से Documents जरुरी है की पूरी जानकारी.

NGO Se Paise Kaise Kamaye - Apna NGO Kaise Kholen
NGO Se Paise Kaise Kamaye – Apna NGO Kaise Kholen

NGO Kya Hai 

NGO एक ऐसी संस्था या संगठन होता हैं जो स्वतंत्र रूप से गरीब बच्चो, बेसहाय लोगो, पीड़ित महिलाओ, असहाय बुजुर्गो, पर्यावरण के विभिन्न आयामों के संरक्षण आदि से संबंधित कई प्रकार की समस्याओ का समाधान अपने संगठन या संस्था  के माध्यम से करने का प्रयास करते हैं.

यह संघठन हमारे आस पास में चल रही सभी तरह की समस्याओं की जानकारी एकत्रित कर Government कर्मचारियों को पीड़ितों तक पहुचाने का काम करते हैं.

NGO इस तरह की Non- Governmental संस्थाए होती हैं, जो कि कानून के दायरे में रहते हुए और सरकार के द्वारा निर्धारित किए गए नियमों का पालन करते हुए सेवा कार्य करती है.

NGO Kaise Kholte Hai

जिस तरह भारत में अलग अलग राज्यों के अपने अलग कानून होते हैं ठीक उसी तरह एक NGO बनाने के लिए भी भारत के हर राज्य में अपने अलग नियम होते हैं जिसका पालन करते हुए आप भी NGO खोल सकते हैं.

सबसे पहले आपको अपने NGO का नाम तय करना होगा और फिर उसी नाम से आपको अपने NGO का रजिस्ट्रेशन करवाना होगा.

NGO को रजिस्टर्ड करवाने की लिए आप इन 3 अधिनियम में से किसी एक की मदद ले सकते हैं :

  1. Trust Act: अगर आप अपने NGO का रजिस्ट्रेशन इस ACT के अंतर्गत करवाते हैं तो आपको अपने NGO के रजिस्ट्रेशन का आवेदन रजिस्ट्रार के Office में या फिर चेरिटी आयुक्त के Office में करना होगा, जिसके लिए आपको Deed Document जमा करवाना अनिवार्य होगा, कई राज्यों में NGO को रजिस्टर्ड करवाने के लिए Trust Act के बजाय, 1882 Trust Act का पालन किया जाता है, जिसके अनुसार NGO में कम से कम 2 Trustees का होना अनिवार्य होता है.
  2. Society Act: Society ACT के अंतर्गत यदि आप अपने NGO को रजिस्टर्ड करवाते हैं तो आपको अपने NGO को एक NGO के बजाए एक Society के रूप में रजिस्टर्ड करवाना होगा, जिसके लिए आपको Memorandum of Association Rules and Regulation Document बनवाना होगा, और इस Document को बनवाने के लिए आपकी सोसाइटी Society में कम से कम 7 सदस्यों का होना अनिवार्य होता है, इस Act को महाराष्ट्र में लागू किया गया है.
  3. Company Act: इस Act में भी Society Act की ही तरह Memorandum of Association Rules and Regulation Document की आवश्यकता होती है, लेकिन इस Act के अंतर्गत आपके Ngo में कम से कम 3 ही सदस्यों का ही होना अनिवार्य है, इस Act की खास बात यह है कि इस Act में किस स्टाम्प पेपर की आवश्यकता नही होती,

NGO Kholne Ke Liye Kya Kare

NGO खोलने के लिए सबसे पहले आपको NGO का नाम और फिर उस NGO को संचालित करने वाली संचालन समिति बनानी होगी, संचालन समिति के बारे में आपको बता दे कि भारतीय ट्रस्ट अधिनियम के नियमों के अनुसार आपको समिति में कम से कम 2 सदस्यों को रखना अनिवार्य  होता है.

सदस्यों की अधिकतम संख्या को आप NGO के कार्यभार के अनुसार चाहे जितनी संख्या में बढ़ा भी सकते हैं लेकिन कम से कम सदस्यों की संख्या 2 रखना जरूरी होता है.

भारतीय ट्रस्ट अधिनियम के सदस्यता सम्बंधित नियम के अलावा भारत में अन्य प्रदेशों की बात करे तो महाराष्ट्र में NGO खोलने के लिए जो नियम महाराष्ट्र पब्लिक ट्रस्ट अधिनियम ने बनाए हैं.

उसके अनुसार आपके संगठन में कम से कम 7 सदस्य होना आवश्यक है, अधिकतम आप इस संख्या को चाहे जितना बड़ा सकते हैं, इसके अलावा महाराष्ट्र के Society अधिनियम के अंतर्गत NGO को TRUSTEE के तौर पर भी खोला जाता है.

किसी प्रदेश  में NGO को कंपनी का नाम भी दिया जाता है, इस तरह NGO खोलने के लिए विभिन्न प्रदेशों के अलग अलग नियम होते हैं.

NGO Kaise Kam Karta Hai

NGO का मुख्य काम समाज के किसी भी पीड़ित वर्ग की सेवा या सहायता करना होता है, जिसमें NGO के सभी सदस्यों की भागीदारी होती है, जिस NGO में सदस्यों की संख्या अधिक होती है, उस NGO को सेवा कार्य करने में उतनी ही आसानी होती है और किसी भी NGO का अंतिम लक्ष्य सेवा ही होता है.

NGO Kaise Chalaye

किसी भी NGO को चलाने के लिए सबसे पहले एक मजबूत टीम तेयार करनी होती है, जो किसी भी क्षेत्र में आपकी संस्था का संचालन कर सके.

एक NGO बनाने वाले व्यक्ति के अलावा भी NGO का संचालन करने के लिए कई सदस्य होते हैं जैसे:

  • अध्यक्ष
  • उपाध्यक्ष
  • सचिव
  • उपसचिव
  • कोषाध्यक्ष
  • मंत्री
  • सदस्य

नोट: किसी भी NGO में एक अध्यक्ष होता है, इसके अलावा बताए गए पदों पर 2 या 2 से अधिक् लोग भी हो सकते हैं.

किसी भी NGO का प्रमुख कार्य पीड़ित या जरुरतमंदो की सेवा करना होता है और इस लिए NGO की संचालन टोली में ऐसे सदस्यों को जोड़ना चाहिए जो दीन दुखियों के दर्द को समझ सके और निश्छल मन से उनकी सहायता के लिए सदैव तत्पर रहे.

NGO Se Paise Kaise Kamaye

किसी भी संगठन या संस्था का कोई ना कोई उद्देश्य जरुर होता है जिसे प्राप्त करने के लिए उस संस्था के सदस्य हमेशा ही अपना पूरा EFFORT लगा रहे होते हैं.

लेकिन NGO का अंतिम लक्ष्य भी सेवा ही होता है और NGO से जुड़ने वाला हर व्यक्ति सेवा की भावना से ही जुड़ता है, लेकिन फिर भी यदि कोई व्यक्ति ngo से पैसा कमाना चाहता है तो वो भी NGO से जुड़ सकता है.

आज की इस BUSY दुनिया में सभी लोग पैसा कमाने की होड़ में लगे हुए हैं. लेकिन कई लोग जो संपन्न हैं वो सेवा के लिए समय नही निकाल पाते और इस तरह के NGO बनाते हैं.

उस NGO को सँभालने के लिए EMPLOYEE रखते हैं और उन्हे अच्छी salary भी देते हैं, ताकि उनकी गैर मोजुदगी में भी उनके पेसो से सेवा कार्य हो सके और इस तरह से आप NGO से जुड़कर भी पेसे कमा सकते हैं.

Apne NGO Ke Liye Project Kaise Le

आप अपने NGO के लिए सीधे तौर पर भी सरकार से संपर्क साध सकते हैं और सरकार के द्वारा लागू की गई नई-नई योजनाओं के साथ जुड़कर उस योजनाओं की जानकारी जरूरत मंद लोगों तक पहुचाने में सरकार की मदद भी कर सकते  हैं.

इसके अलावा सेवा से जुड़े कई Project आप स्वयं भी अपने NGO के माध्यम से शुरू कर सकते हैं, जिसमें त्यौहार के समय किसी सेवा बस्तियों में जाकर नए वस्त्र वितरित करना, बच्चों को शिक्षा सम्बंधित सामग्री की व्यवस्था करवाना जैसे छोटे Project से शुरू किया जा सकता है.

NGO Kholne Me Kitni Lagat Lagti Hai

अगर आप एक NGO बनाना चाहते हैं और उसमें होने वाले खर्चे से डरते हैं तो हम आपको बता दे कि NGO को बनाने में केवल नाम मात्र का ही खर्च होता है, जो कि केवल पहली बार अपने NGO को रजिस्टर करवाने में देना होता है.

इसके अलावा एक NGO बनाने में और कोई खर्च नही लगता, लेकिन जेसे जेसे आप अपने NGO के काम और टीम को बढ़ाते हैं वेसे वेसे आपके NGO पर होने वाला खर्च बढ़ सकता है.

NGO Me Kitni Kamai Hoti Hai

किसी भी NGO से जुड़ने वाले सदस्यों की संख्या काफी होती है और उससे भी अधिक संख्या होती है उस NGO को Funding करने वाले लोगों की,

कोई भी NGO अपने सेवा कार्यो की Publicity पर ज्यादा ध्यान देते हैं जिससे की ज्यादा से ज्यादा लोग तक उनके सेवाकार्यो की जानकारी पहुचती है और इसी से उन्हें ज्यादा से ज्यादा Funding मिल पाती है.

कई बार तो लोगों के द्वारा NGO को इतना दान किया जाता हैं उस दान के पैसों से NGO के सारे सेवा सम्बंधित कार्य पुरे होते हैं साथ ही NGO के पास काफी सारा पैसा इकट्ठा हो जाता है, जिसे NGO के सदस्य उपयोग में ले लेते हैं.

इसका मतलब यह है कि NGO की कमाई उसके किए हुए सेवा कार्य और उस कार्य की Publicity पर निर्भर करती है.

What Is NGO Full Form 

“Non Government Organization”  को ही Shortcut में NGO कहा जाता है.

NGO Full Form in Hindi

NGO का Full Form: Non Governmental Organization होता है, जिसे हिंदी  में गैर शासकीय संगठन या गैर सरकारी संगठन भी कहते हैं.

उम्मीद करते है आपको हमारी यह पोस्ट NGO Se Paise Kaise Kamaye और Apna NGO Kaise Kholen पसंद आई होगी.

अगर पोस्ट पसंद आयी है तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगो को शेयर करे और इस पोस्ट से सम्बंधित कुछ भी सवाल हो तो इसे आप निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर पूछ सकते है.

यह पोस्ट पढ़े :-